Stop-Ur time starts here - Enjoy reading

Pages

RSS

Welcome to my Blog
Hope you enjoy reading.

Tuesday, November 22, 2011

मेरा प्रेम मेरी चाय - डॉ नूतन गैरोला

                                                                                                                                                                    
          320963_2221205664020_1664044845_2160566_99265714_n

                                                  
तू कड़क
तू है मीठी
अलसाई सी है हर सुबह
बिन तेरे .......
बिन तेरे
एक प्यास अनबुझी सी
हर शाम अधूरी सी ......
एक तलब
लबों तक आ कर बूझे
अंदाज है शौक़ीनों का
आवाज हैं चुस्की की  .....

 

डॉ नूतन गैरोला

 

प्रकृति से तो सभी प्रेम करते हैं पर व्यक्तिक तौर पर प्रेम हम किस से करते है - व्यक्ति विशेष, वस्तु विशेष, आदत विशेष, या शौक विशेष से|   और चाय के प्रति मेरा अगाध प्रेम है … वैसे भी हम पहाड़ियों को तो ठण्ड में राहत देने के लिए चाय एक शौक ही नहीं एक आदत बन जाती है जिसके बिना अधूरा अधूरा सा लगता है..


                        

12 comments:

सागर said...

bhaut hi khubsurat....

रविकर said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

बधाई ||

dcgpthravikar.blogspot.com

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

कल 25/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

दिगम्बर नासवा said...

चाय की खुस्कियां के बिना रहना मुश्किल है ...
बहुत खूब ...

kase kahun?by kavita verma said...

swadist khushaboo vali chai...man ko bahye..

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

चाय प्रेम पसंद आया

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

खूबसूरत रचना...
सोंधी सोंधी चाय की तरह....
सादर बधाई....

Udan Tashtari said...

अब चलें...चाय पी जाये.

Unlucky said...

Sounds interesting, might have to take you up on that some other time. supporting your blog! Looking forward to future updates!
From everything is canvas

Maheshwari kaneri said...

चाय की तरह ताजगी लिये सुन्दर रचना..

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

umda prastuti.

अनुपमा त्रिपाठी... said...

चाय के प्रेम में हम आपके साथ हैं |कृपया ये चाय जल्दी जल्दी पिलाया करें ...आप चाय अच्छी बनाती हैं ...!

Post a Comment

आप भी कुछ कहें